महुआ मोइत्रा मानहानि मामले की सुनवाई अपडेट | निशिकांत दुबे अनंत देहद्राय | मोइत्रा की समाजवादी पार्टी ने तीन दिन पहले ही मोइत्रा की याचिका खारिज कर दी थी

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • महुआ मोइत्रा मानहानि मामले की सुनवाई अपडेट | निशिकांत दुबे अनंत देहद्राय

नई दिल्ली12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
यूक्रेनी मोइत्रा ने बीजेपी के खिलाफ न्यूयापलवादी निशिकांत जॉय और वकील अनंत देहाद्राय के मनहानी का केस किया है।  - दैनिक भास्कर

यूक्रेनी मोइत्रा ने बीजेपी के खिलाफ न्यूयापलवादी निशिकांत जॉय और वकील अनंत देहाद्राय के मनहानी का केस किया है।

कैश-फॉर-क्वेरी मामले में ग्रैफीन न्यूनतम मिनियन मोइत्रा की संसद खत्म हो गई है, लेकिन केस को लेकर जुनैद मोइत्रा ने दिल्ली हाई कोर्ट में मन्हानी की याचिका दाखिल की थी। इस मामले में आज सुनवाई होगी। यूजीन ने कहा था- कैश-फॉर-क्वेरी चैलेंज है। बीजेपी सांसद निशिकांत जॉय और सुप्रीम कोर्ट के वकील अनंत देहादराय ने अपने समर्थकों के खिलाफ आरोप लगाते हुए उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश की है।

यूक्रेन की याचिका में कहा गया है कि निशिकांत जॉय और देहादराय ने एक आरोप लगाया है कि उन्होंने संसद में पैसे लेकर सवाल पूछे थे। निशिकांत जॉनसन ने 15 अक्टूबर 2023 को राष्ट्रपति ओम बिरला को पत्र लिखा था। इस पत्र में उन्होंने कहा था कि बिजनेसमैन दर्शन हीरानंदानी से पैसे लेकर उन्होंने सवाल पूछा था। इनसे कुछ सवाल अडानी ग्रुप से जुड़े थे। इसके अलावा अनंत देहाद्राई ने सीबीआई से याचिका दायर की थी कि जापानी मोइत्रा ने हीरानंदानी का ऑनलाइन खाता खोला था। जापानी मोइत्रा ने इस आधार पर 50 से 61 प्रश्न पूछे थे।

जापानी मोइत्रा पर आरोप था कि वे संसद में लेकर आए थे

जापानी मोइत्रा पर आरोप था कि वे संसद में लेकर आए थे

दिल्ली HC में जापानी मोइत्रा ने निशिकांत दुबे, देहादराय और कुछ मीडियाकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज कराया था। हालाँकि, बाद में जापान ने मीडिया में कलाकारों से केस हटाने की मांग की, जो कोर्ट ने मैन ली को दिया। अब केस सिर्फ निशिकांत भगवान और अनंत देहादराय के खिलाफ चल रहा है।

यूजीन के वकील ने केस से खुद को अलग किया था

अनंत देहाद्राई ने 20 अक्टूबर को हुई सुनवाई में जज के सामने कहा- यूक्रेन मैत्रा के वकील गोपाल शंकरनारायणन ने मुझे फोन किया था। उन्होंने पूछा कि क्या बाहरी सहमति हो सकती है?

इस पर अटॉर्नी जनरल की भूमिका वकील शंकरनारायणन ने कही, यह चौंकाने वाली बात है। क्या वह अभी भी इस मामले में पेश होने के लिए नामांकित हैं? इसके बाद शंकरनारायणन ने केस से खुद को अलग कर लिया। इसके बाद यूक्रेन की ओर से ये केस वकील समुद्र सारंगी लड़कियाँ रह रहे हैं।

जापानी मोइत्रा मनहानी केस से जुड़े 3 किरदार…

1. जापानी मोइत्राः अमेरिका में पढ़ीं, लंदन में नौकरी और बंगाल में राजनीति

इस केस के मुख्य पात्र जापानी मोइत्रा हैं, जिन पर सारे आरोप हैं। टीएमसी न्यूलाइन यूक्रेनी मोइत्रा मूलत: बैंकर हैं। फ़्रेंच एजुकेशन के बाद मोइत्रा हैयर एजुकेशन के लिए अमेरिका गई। बाद में उनकी नौकरी लंदन के एक प्रतिष्ठित बैंक में लग गई। कुछ सालों में उनकी नौकरी से मोह भंग हुआ और वे राजनीति में आ गए। उन्होंने 2016 के पहले चुनाव में पश्चिम बंगाल के करीम नगर विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की थी। 2019 में वे टीएमसी के टिकट पर कृष्णानगर सेसोम चुनाव लड़कियाँ और सरदारें। 8 दिसम्बर को उनकी संसद से पद समाप्त हो गया।

2. निशिकांत जैनः राजनीति में आने से पहले दुनिया भर में थे

इस कहानी में दूसरा अहम किरदार भाजपा मिनियन निशिकांत किसान का है। 15 अक्टूबर कोओम बिड़ला को प्लांटर लिखा गया था। उन्होंने इसमें आरोप लगाया कि जापान ने संसद में प्रश्नपत्र के लिए पैसे और तोहफ़े के लिए आवेदन किया था। गोड्डा झारखंड से भाजपा नेता निशिकांत दुबे ने 2009 में राजनीति में कदम रखा था। इससे पहले वे एस्सार ग्रुप में कंपनी प्रमुख थे। उन्होंने 2009 में गोड्डा से पहला चुनाव जीता था। इसके बाद 2014 और 2019 में भी जीत हासिल हुई।

4. जय अनंत देहादराय: सिनाईन पर आरोप वाले सर्वोच्च न्यायालय के वकील

जय अनंत देहादराय सर्वोच्च न्यायालय में वकील हैं। कुछ मीडिया एलैटिक्स के अनुसार जय अनंत देहाद्राई और इग्निशन मोइत्रा दोनों पहले दोस्त थे, बाद में दोनों में झगड़ा हो गया। मोइत्रा ने पिछले छह महीनों में देहाद्राई के खिलाफ पुलिस में आपराधिक छवि, चोरी, अश्लील संदेश और अपमान की शिकायत की थी। जय इनफिनिट ने मोइत्रा के खिलाफ सीबीआई में सबूत के तौर पर शिकायत दर्ज की है। इसके बाद यही सबूत बीजेपी के सांसद निशिकांत दुबे के माध्यम से पेश कर संसद में शिकायत दर्ज कराई गई है।

यूक्रेनी मोइत्रा की नोमास संविधान समाप्त होने से पहले नोमास में हुई बहस

8 दिसंबर (शुक्रवार) को एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट के बाद उनका निष्कासन प्रस्ताव पेश किया गया। इसके बाद वोटिंग हुई थी। हालाँकि जापानी मोइत्रा को पदमुक्त करने के लिए सदन में वोटिंग शुरू हो गई थी लेकिन फिर भी डेमोक्रेटिक पार्टी ने बॉयकॉट कर दिया था। वोटिंग के बाद मोनोसेल ने इलेक्ट्रॉनिक मोइत्रा के खिलाफ निस्कासन प्रस्ताव पास कर दिया था। विपक्ष से निष्कासन के बाद यूक्रेन ने कहा कि विपक्ष की एथिक्स कमेटी ने मुझे अपने हर नियम तोड़ने के लिए एक रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा। पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *